Friday, May 25, 2007

मुश नानाजी और internet

अभी मैं मुश्कान के नानाजी को इन्टरनेट कि खुबियोँ के बारे मैं बता रह हूँ। झाँसी का नक़्शा भी दिखाया और बताया कि एसे हिंदी मैं भी टाईप कर सकते हैं। और आजकल समाचार भी हिंदी मैं देख सकते हैं। अभी हम क्रिकेट के बारे मैं विचार विमर्श कर रहे थे और परेशां थे कि दोनो ओपनिंग बल्लेबाज चोट के करना आराम करने क्यूँ चले गए। आज शाम के उन्हें कर्नाटक एक्सप्रेस से वापिश जाना हैं
Post a Comment

Disqus for dsteps blog